ब्लॉग

Drive and Motivation

अपने लक्ष्यों और सपनों को पूरा करना हमारी इच्छा और प्रेरणा पर निर्भर करता है

इच्छा और प्रेरणा लक्ष्यों को प्राप्त करने की हमारी क्षमता को निर्धारित करते हैं। अंतर्निहित समस्याओं का प्रबंधन करना और आंतरिक रुचियों को बढ़ावा देना मदद कर सकता है।

आपके द्वारा हासिल किया गया सबसे बड़ा लक्ष्य क्या है? कुछ लोगों के पास इस प्रश्न का उत्तर तुरंत होता है। वे उत्तर दे सकते हैं कि उन्होंने कॉलेज की डिग्री पूरी की, एक बच्चे की परवरिश की, या एक घर खरीदा। कुछ अलग उतर भी शामिल हो सकते हैं, जैसे स्थानीय मैराथन खत्म करना, संगीत वाद्ययंत्र सीखना या फिर बीमारी या चोट जैसी जीवन की कठिनाइयों से उभरना ।

इनमें से कोई भी कार्य या लक्ष्य प्राप्त करना आसान नहीं होता। लोग केवल दिन-प्रतिदिन जीवन जीने और बैठकर देखने से उन्हें हासिल नहीं करते। किसी लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए रुचि, ज़रुरत, दृढ़ता, जिज्ञासा, ऊर्जा और उत्तेजना की आवश्यकता होती है। इन लक्ष्यों को प्राप्त करने की ओर बढ़ने की चाह और क्षमता ही हमारी इच्छा और प्रेरणा को बनाती है।

इच्छा और प्रेरणा मानसिक स्वास्थ्य मिलियन एमएचक्यू (मानसिक स्वास्थ्य भागफल) में मापी जाने वाली उपश्रेणियों में से एक है। स्वस्थ इच्छा और प्रेरणा होने का मतलब है कि आप निम्न में सक्षम हैं:

  • कठिन कार्यों और गतिविधियों को आरंभ से अंत तक दृढ़ता से पूरा करने में
  • अपने आसपास की दुनिया के बारे में जिज्ञासु, रुचि रखने, उत्साहित और उत्साही होने में
  • अपने लक्ष्यों के रास्ते में आने वाली चुनौतियों और विकर्षणों पर काबू पाने में

हम सभी के जीवन में ऐसे कुछ कार्य होते हैं जिन्हें हमने किसी न किसी कारणवश पूरा न किया हो। लेकिन यदि आपकी लक्ष्यों और परियोजनाओं को पूरा न करने की पुरानी समस्या है, तो हो सकता है कि, आप कम इच्छा और प्रेरणा की परेशानी से जूझ रहे हैं। कुछ मामलों में, निम्नलिखित मुश्किलें इच्छा और प्रेरणा में बाधा बन सकती हैं:

  • व्यक्तिगत परिस्थितियाँ (जैसे घर में व्यक्तिगत समस्याएँ, या आपके समुदाय या क्षेत्र में सार्वजनिक समस्याएँ)
  • हाल ही के या पुराने सदमें जो आपको परेशान या विचलित कर रहे हैं
  • शारीरिक स्वास्थ्य संबंधी समस्याएँ जो व्याकुलता या उत्साह कम करने का कारण बनती हैं
  • व्यसन (एडिक्शन्स) जो आपके समय बिताने के तरीके पर हावी होते हैं, जैसे नशीले पदार्थ, वीडियो गेम या जुए की लत

कठिनाइयों का समस्या निवारण

यदि आप इच्छा और प्रेरणा से संघर्ष कर रहे हैं, तो आपको यह पता लगाने से मदद मिलेगी, कि क्या हो रहा है और आप कैसे सहायता प्राप्त कर सकते हैं या फिर कैसे खुद अपनी मदद कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, अवसाद की परेशानी से जूझ रहे कई लोगों की इच्छा कम हो जाती है। थेरेपिस्ट्स अपने मरीज़ों से पूछे जाने वाले सामान्य प्रश्नों में से एक प्रश्न यह भी पूछते हैं कि क्या उनकी रुचि उन चीज़ों में कम हो गई है जिनमें उन्हें आनंद मिलता था। इन भावनाओं के बारे में डॉक्टर या थेरेपिस्ट से बात करना, परेशानी का पता लगाने के लिए सहायक हो सकता है और फिर आप इस परेशानी को हल करने की कोशिश शुरू कर सकते हैं।

अपने स्वास्थ्य के अन्य क्षेत्रों की देखभाल करने से भी इच्छा और प्रेरणा के समस्या निवारण में मदद मिल सकती है। उदाहरण के लिए, मनोदशा और दृष्टिकोण और मन-शरीर संबंध दोनों का इच्छा और प्रेरणा से गहरा संबंध है।

यदि आपका इच्छा या प्रेरणा में नकारात्मक एमएचक्यू स्कोर है, तो आपको डॉक्टर या योग्य काउंसलर से संपर्क करना चाहिए। एक पेशेवर आपको स्थिति का आंकलन करने और यह जानने में कि क्या हो रहा है, मदद कर सकता है। यू.एस. में आप सब्सटांस एब्यूज एंड मेन्टल हेल्थ सर्विसेज (SAMSHA) से संपर्क कर सकते हैं। यदि आपको हिंसक या आत्मघाती विचार हो रहे हैं, तो आपको डॉक्टर या थेरेपिस्ट के साथ-साथ अपने क्षेत्र की आपातकालीन सेवाओं से संपर्क करना चाहिए और सहायता के लिए सुसाइड प्रिवेंशन लाइफलाइन पर जाना चाहिए।

संबंधित पोस्ट देखें: एक नकारात्मक एमएचक्यू (MHQ) चिकित्सा सहायता लेने का संकेत है।

इच्छा और प्रेरणा को बढ़ाना

यदि आप बस अपनी इच्छा और प्रेरणा को बनाए रखना या सुधारना चाहते हैं, तो सलाह की कोई कमी नहीं है। ज़्यादातर स्वयं सहायता और सीखाने के उद्योग इसी विचार के इर्द-गिर्द बने हैं।

बहुत अनुसंधानों (रेसर्चेस) ने आंतरिक (या अंदरूनी) और बाहरी प्रेरणा के महत्व पर ध्यान केंद्रित किया है। दो सकारात्मक मनोविज्ञान शोधकर्ताओं (स्टीफानो डि डोमेनिको और रिचर्ड रयान) के अनुसार, जो लोग भीतर से प्रेरित होते हैं वे “एक गतिविधि में इसलिए जुटते हैं क्योंकि वे उसे दिलचस्प और स्वाभाविक रूप से संतोषजनक पाते हैं।” परन्तु जब लोग बाहरी कारकों से प्रेरित होते हैं, तो वे एक गतिविधि को इसलिए पूरा करते हैं क्योंकि वे “इनाम, दंड से बचाव, या कुछ मूल्यवान परिणाम ” चाहते हैं।

उदाहरण के लिए, ऐसा हो सकता है कि सुमन एक नई भाषा सीखने के लिए आंतरिक रूप से प्रेरित हो क्योंकि वह भाषाविज्ञान से प्यार करती है, लेकिन बाहरी रूप से उस नौकरी को करने के लिए प्रेरित होती है जिसे वह नापसंद करती है क्योंकि उसे अपने बिलों का भुगतान करना है। अधिकांश विशेषज्ञ इस बात से सहमत हैं कि हमें अपने जीवन लक्ष्यों में सफल होने के लिए आंतरिक और बाहरी दोनों तरह की प्रेरणाओं की आवश्यकता होती है, हालांकि कुछ का मानना है कि आंतरिक प्रेरणाएँ लम्बें समय तक रहती हैं।

यदि आप उन कार्यों के लिए अपनी आंतरिक प्रेरणा को बढ़ाना चाहते हैं जो आपको बोरिंग लगते हैं, तो आप ऐसे छोटे समय वाले कम आकर्षक कार्यों को अपने दीर्घकालिक लक्ष्यों से जोड़ने पर विचार कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, किसी ऐसे काम पर रोज़ाना जाना जिसे आप पसंद नहीं करते, पर वे आपको अच्छी सिफारिश दिलाने में मदद कर सकता है, जो आपके दीर्घकालिक लक्ष्यों को पूरा करने के लिए आवश्यक है। काम से बोर होने पर इस बात को याद रखना मददगार होता है। इसी तरह, बीजगणित (अलजेब्रा) जैसे सामान्य शिक्षा पाठ्यक्रम में पास करने लायक नंबर लेने से आपको इतिहास की डिग्री पूरी करने में मदद मिल सकती है जो आपके लिए महत्वपूर्ण है, भले ही बीजगणित (अलजेब्रा) की क्लास आपको पूरी तरह से असंबंधित लगती हो।

हम सभी समय-समय पर अपनी इच्छा और प्रेरणा के साथ संघर्ष करते हैं। कभी-कभार ध्यान भटकना या फोकस में बदलाव सामान्य है। यदि आप खुद को इससे ज़्यादा संघर्ष करते हुए पाते हैं, और अपना एमएचक्यू (MHQ) स्कोर बढ़ाना चाहते हैं, तो अंतर्निहित भलाई के मुद्दों को संबोधित करना और अपनी आंतरिक प्रेरणाओं की पहचान करना मदद कर सकता है।