ब्लॉग

Complex Cognition and Mental Health

अनुभूति जटिल परिस्थितियों से निपटने की हमारी क्षमता को दर्शाती है

अनुभूति में निर्णय लेना, योजना बनाना और रचनात्मकता शामिल है। यह दुनिया में अनुकूलन बनाने और पनपने की हमारी क्षमता को प्रभावित करती है।

व्यस्त माता-पिता पूरे सप्ताह के लिए भोजन की योजना बनाते हैं, एक कार्य परियोजना को पूरा करते हैं, और गणित के होमवर्क में बच्चे की मदद करते हैं। एक कॉलेज का छात्र फाइनल के लिए अध्ययन करता है और तय करता है कि अगले सेमेस्टर में कौन से विषय लेने हैं। एक प्रबंधक एक नए कर्मचारी को प्रशिक्षित करता है, ग्राहकों की शिकायतों को संभालता है, और विभाग के बजट अनुरोधों को पूरा करता है। इन सभी परिदृश्यों में, अनुभूति महत्वपूर्ण है।

अनुभूति जटिल परिस्थितियों से निपटने और सभी बातों को नज़र में रखते हुए निर्णय लेने की हमारी क्षमता को दर्शाती है। इसमें समस्या-समाधान, रचनात्मकता और परिवर्तन के अनुकूल होना शामिल है। यह मानसिक स्वास्थ्य मिलियन एमएचक्यू (मानसिक स्वास्थ्य भागफल) में मापी गई उपश्रेणियों में से एक है।

यदि आपके पास स्वस्थ ज्ञान(अनुभूति) है, तो आप निम्नलिखित कार्य कर सकते हैं:

  • दिनचर्या में बदलाव होने पर आसानी से अनुकूलन करना
  • नए विचारों को व्यक्त करना और समस्याओं का समाधान खोजना
  • कार्यों और गतिविधियों की प्राथमिकता निर्धारित करना, योजना बनाना और उन्हें व्यवस्थित करना
  • निर्णय लेते समय सोच समझ कर जोखिम उठाना।

कोई व्यक्ति जिसे अनुभूति में कठिनाई हो रही हो वे निम्नलिखित कार्य कर सकता है:

  • दुनिया को समझने के लिए संघर्ष
  • बुनियादी निर्णय लेने में कठिनाई
  • ऐसे जोखिम उठाना जो पूर्ण रूप से सही न हो

कम अनुभूति के कारण

अनुभति कम होने के कई कारण हो सकते हैं। हो सकता है की कोई व्यक्ति किसी अंतर्निहित मानसिक स्वास्थ्य समस्या से जूझ रहा हो जिसका प्रभाव उसकी सोच पर पड़ रहा है। नहीं तो मस्तिष्क की चोट लगना या दवा के दुष्प्रभाव भी इसका कारण हो सकते हैं। कुछ अंतर्निहित आनुवंशिक समस्याएँ भी अनुभूति को प्रभावित कर सकती हैं। बड़ी उम्र वाले वयस्कों की अनुभूति समय के साथ कम हो सकती है।

यदि आपका एमएचक्यू (MHQ) पर अनुभूति का स्कोर विशेष रूप से कम है (0 या नीचे), तो आपको इस परेशानी को हल करने के लिए पेशेवर सलाह लेने के बारे में विचार करना चाहिए, और किसी भी अंतर्निहित परेशानी के होने की संभावना की जांच करवानी चाहिए। यदि आपको स्थानीय सेवाओं को खोजने में सहायता की आवश्यकता है और आप यू.एस. में हैं, तो आप सब्सटांस एब्यूज एंड मेन्टल हेल्थ सर्विसेस एडमिनिस्ट्रेशन (SAMHSA) से संपर्क कर सकते हैं।

क्या मैं अपनी अनुभूति बढ़ा सकता हूँ?

कुछ तरीके हैं जिनसे आप अपनी अनुभूति में सुधार ला सकते हैं। यदि कोई अंतर्निहित या बाहरी कारण है जो आपकी अनुभूति को प्रभावित कर रहा है, तो उसे संबोधित करने से समस्या का समाधान करने में मदद मिल सकती है। उदाहरण के लिए, कभी-कभी भावनात्मक कठिनाइयों (जैसे अवसाद) या उच्च स्तर के तनाव वाले लोगों को निर्णय लेने और योजना बनाने में परेशानी हो सकती है। मनोविकृति या सनक के सक्रिय एपिसोड भी सोच प्रक्रियाओं को प्रभावित कर सकते हैं।अपने भावनात्मक स्वास्थ्य की देखभाल करने से अनुभूति में मदद मिलती है।

कभी-कभी शारीरिक बीमारी को संबोधित करना महत्वपूर्ण होता है। उदाहरण के लिए, कुछ दवाइयाँ हैं जो अल्जाइमर रोग की प्रगति को धीमा कर सकती हैं और संज्ञानात्मक कौशल(अनुभूति) को लंबे समय तक बनाए रखने में मदद कर सकती हैं। या, अगर किसी को कभी मस्तिष्क की चोट लगी हो, तो वे समय के साथ यादाश की चुनौतियों या समस्या समाधान से निपटने के लिए नए तरीके विकसित कर सकते हैं।

लेकिन, जहाँ दवा मस्तिष्क की मदद कर सकती है, वही समस्या भी बन सकती है, जिससे ऐसे साइड इफेक्ट हो सकते हैं, जो अनुभूति को प्रभावित करते हैं। इसलिए महत्वपूर्ण बात यह है कि अपनी व्यक्तिगत स्थिति के लिए सर्वोत्तम तरीके को पहचानने और संबोधित करने में सहायता के लिए अपनी चिकित्सा टीम से बात करें।

यदि आपका एमएचक्यू (MHQ) अनुभूति स्कोर सकारात्मक है, तो ऐसे बहुत से तरीके होते हैं जिनसे आप अपने आप को और ज़्यादा चुनौती देकर बढ़ती उम्र के साथ अपने मस्तिष्क की रक्षा कर सकते हैं। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑन एजिंग (एनआईए) अपने शारीरिक स्वास्थ्य की देखभाल करने, नए ज्ञान और कौशल सीखने और सामाजिक रूप से जुड़े रहने की सलाह देता है। उदाहरण के लिए, एनआईए के अनुसार, मदद करने के लिए वालंटियर करना, शौक पालना या क्लास लेने जैसी गतिविधियाँ “संज्ञानात्मक रिज़र्व” (अनुभूति रिज़र्व) बनाने में मदद कर सकती हैं। ये मस्तिष्क को उम्र बढ़ने के प्रभावों से समायोजित करने में मदद कर सकते हैं। यहाँ तक ​​कि ऐसे कुछ सबूत भी हैं जो दिखाते हैं कि बुजुर्ग मरीजों को संज्ञानात्मक कौशल सक्रिय रूप से सिखाया जा सकता है।

सचेतन और मेडिटेशन जैसी गतिविधियाँ भी तनाव कम करने में मदद कर सकती हैं, जो बदले में अनुभूति को बेहतर बनाने में मदद करती हैं। सचेतन और मूवमेंट को मिलाने वाली गतिविधियाँ जैसे योग या ताई ची, समय के साथ मस्तिष्क के कार्य को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं। हार्वर्ड हेल्थ ने पाया है कि ताई ची कुछ रोगियों के लिए मनोभ्रंश का बढ़ना कम कर सकता है और ऐसे लोग जिन्हें कोई समस्या नहीं है उनके मस्तिष्क में सुधार ला सकता है। ताई ची और अनुभूति पर किए गए 20 अध्ययनों की समीक्षा में, ताई ची को कार्यकारी कार्यों में सुधार लाते पाया गया था – विशेष रूप से एक साथ बहुत से कार्य करने, समय का प्रबंधन करने और निर्णय लेने की क्षमता में – यहाँ तक कि उन लोगों में भी जिनकी संज्ञानात्मक क्षमताओं में पहले से कोई गिरावट या दिकत नहीं थी।

अनुभूति हमारे जीवन के कई क्षेत्रों को प्रभावित करती है। इसलिए यह समझना उपयोगी है कि यह क्यों महत्वपूर्ण है, इसे कैसे सुरक्षित रखा जाए, और यदि आपको इसकी आवश्यकता हो तो सहायता प्राप्त करना क्यों महत्वपूर्ण है।