ब्लॉग

Core Cognition - girl in library

हमारे रोज़मर्रा के कार्य अनुभूति पर निर्भर करते हैं

अनुभूति आपके बुनियादी कामकाज जैसे याददाश्त, ध्यान और दुनिया में रोजमर्रा की बातचीत को प्रभावित करती है। यह समझने से कि आपकी अनुभूति कैसे काम करती है, आपको इसे सुरक्षित रखने और सुधारने में मदद मिल सकती है।

यदि आपने कभी किसी बच्चे को नए कौशल सीखते हुए देखा है, जैसे कि बात करना या ध्वनियों का जवाब देना, तो आपने अनुभूति को विकसित होते देखा है, यह उन क्षमताओं का समूह है जो मूल रूप से दुनिया में हमें स्वतंत्रता से कार्य करने की अनुमति देती हैं। इसमें ध्यान, स्मृति, सीखने और आत्म-नियंत्रण जैसी मानसिक गतिविधियाँ शामिल हैं।

अनुभूति मानसिक स्वास्थ्य मिलियन एमएचक्यू (मानसिक स्वास्थ्य भागफल) में मापी गई उपश्रेणियों में से एक है। ये क्षमताएं उच्च स्तर के कामकाज का बुनियादी अंग हैं।

स्वस्थ अनुभूति होने का मतलब है कि आप यह सब कर सकते हैं:

  • अपने विचारों और कार्यों में आत्म-नियंत्रण प्रदर्शित करना
  • नए कौशल सीखना और प्रदर्शित करना
  • भाषा तैयार करना और दूसरों के साथ संवाद करना
  • महत्वपूर्ण जानकारी याद रखना
  • बुनियादी कार्यों पर ध्यान देना और अपने आसपास होने वाली चीज़ों पर नज़र रखना

यदि आपको इस क्षेत्र में कोई समस्या है, तो आपको इनका अनुभव हो सकता है:

  • बाध्यकारी व्यवहार के साथ संघर्ष करना
  • आवश्यकता पड़ने पर भी आराम करने या स्थिर रहने में असमर्थ होना
  • ऐसी चीजों को सुनना, देखना, महसूस करना, सूंघना या चखना जो बाकी लोग अनुभव नहीं करते (मतिभ्रम)
  • भ्रम या धीमी सोच के ऐसे क्षण आना जहाँ आप चीजों को समझ नहीं पाते

कम अनुभूति के कारण

अनुभूति कई कारणों से प्रभावित हो सकती है। एडीएचडी (ADHD) जैसे कई विकार हैं, जिनमें ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई होती है जो अनुभूति का ही एक पहलू है। ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर (ASD) जैसी अन्य स्थितियों में संवेदी प्रसंस्करण की कठिनाइयाँ भी शामिल हो सकती हैं – एक और पहलू। मनोभ्रंश अक्सर याददाश्त और दिन-प्रतिदिन के कामकाज को भी प्रभावित करता है जबकि अवसाद, सदमे के बाद का तनाव विकार (PTSD), और जुनूनी बाध्यकारी विकार (OCD) सभी अनुभूति से संबंधित लक्षणों से जुड़े होते हैं। वास्तव में बहुत ही कम मानसिक स्वास्थ्य और तंत्रिका संबंधी स्थितियाँ हैं जो किसी न किसी तरह से अनुभूति को प्रभावित न करती हों।

कभी-कभी किसी बीमारी या मस्तिष्क की चोट के कारण अनुभूति में अत्यधिक या अचानक परिवर्तन हो सकता है। यदि आप इस तरह का अत्यधिक परिवर्तन अनुभव करते हैं, जैसे कि आप कहाँ हैं या क्या हो रहा है के बारे में भ्रम होना (या आप किसी और में यह परिवर्तन देखते हैं), तो अपने क्षेत्र की आपातकालीन सेवाओं को कॉल करें। यह किसी गंभीर समस्या का संकेत हो सकता है, और तुरंत मदद मांगना आपके लिए अच्छा होगा।

यदि आपके यहाँ हाल ही में कोई अचानक परिवर्तन नहीं हुआ है, लेकिन आपका विशेष रूप से एमएचक्यू पर अनुभूति का स्कोर कम है (0 या नीचे), तो आपको जल्द से जल्द एक चिकित्सकीय पेशेवर द्वारा मूल्यांकन प्राप्त करना चाहिए। एक विशेषज्ञ आपको कम संज्ञान (अनुभूति) का कारण निर्धारित करने और उसका समाधान करने में मदद कर सकता है।

क्या मैं अपनी अनुभूति बढ़ा सकता हूँ?

थोड़े समय में अपने स्कोर को बढ़ा पाना और कैसे बढ़ाना इस बात पर निर्भर करता है कि समस्या क्या है। यदि पहले से ही आपको मानसिक स्वास्थ्य या तंत्रिका संबंधी कोई समस्या है जो आपके दिन-प्रतिदिन के कामकाज को प्रभावित करती है, तो आपको उसे पहले संबोधित और प्रबंधित करना चाहिए। एक थेरेपिस्ट या किसी विशेषज्ञ से दवा और व्यवहार संबंधी सहायता आपके लक्षणों को कम करने में आपकी मदद कर सकती है, या फिर आपके जीवन के केवल उन हिस्सों को सरल बना सकती है जो संघर्ष कर रहे हैं।

उदाहरण के लिए, यदि आप चौकस रहने की कठिनाईयों से जूझ रहे हैं, तो कभी-कभी यह दवा से या फिर आहार और गतिविधियों में परिवर्तन लाने से ठीक हो सकती हैं। इन चुनौतियों से परिचित एक मनोचिकित्सक या थेरेपिस्ट भी आपको रोज़मर्रा के कार्यों को आसान बनाने और नए कौशल सीखने में मदद कर सकता है, या उन चीजों में सहायता कर सकता है जो आपके लिए विशेष रूप से कठिन हैं। यदि आप नहीं जानते की आप यह सेवाएं कहाँ से प्राप्त कर सकते हैं और आप यू.एस. में हैं तो आप सब्सटांस एब्यूज एंड मेन्टल हेल्थ सर्विसेस एडमिनिस्ट्रेशन (SAMHSA) से संपर्क कर सकते हैं ।

यदि आपके पास एमएचक्यू में अनुभूति का सकारात्मक स्कोर है, तो समय के साथ इसे धीरे-धीरे सुधारने और संरक्षित करने के तरीके हैं। उदाहरण के लिए, हार्वर्ड हेल्थ ने नोट किया है कि ताई ची जैसी कुछ गतिविधियाँ जो शारीरिक और मानसिक शिक्षा को जोड़ती हैं, आपके मस्तिष्क की बेहतरी को बढ़ावा दे सकती हैं। हार्वर्ड हेल्थ ने यह भी नोट किया है कि अच्छे आहार और व्यायाम से शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार मस्तिष्क के कार्य में सुधार ला सकता है। आप अपने रक्तचाप, रक्त शर्करा और कोलेस्ट्रॉल में सुधार करने के लिए अपने डॉक्टर से सलाह भी ले सकते हैं, जो मस्तिष्क के स्वास्थ्य को बेहतर करने में योगदान देते हैं। ये सभी शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं।

अपने मस्तिष्क को लगातार चुनौती देना भी एक अच्छा विचार है। बहुत से लोग जानते हैं कि क्रॉसवर्ड पज़ल्स और गणित के खेल जैसी गतिविधियाँ मस्तिष्क के स्वास्थ्य और अनुभूति में मदद कर सकती हैं। ऐसे मानसिक खेलों की तलाश करें जो आपके लिए मज़ेदार और चुनौतीपूर्ण हों।

अनुभूति आपके जीवन के सभी क्षेत्रों को प्रभावित करती है और विभिन्न कारकों से प्रभावित हो सकती है। अपने अनुभूति के स्कोर के बारे में जागरूक होना और ज़रूरत पड़ने पर मदद लेना महत्वपूर्ण है।